Mohini Vashikaran Mantra Specialist Baba Ji

Mohini Vashikaran Mantra Specialist Baba Ji

GURU JI  +91 8059046337

Mohini Vashikaran Specialist Baba Ji they are provides the mohini Vashikaran mantra. When you are in feel affection for with someone besides or are charmed. He had solved all types he is skilled in thorny difficulty in existence model as tutoring, commerce loss, Husband wife rapport, courtyard Case, Love wedding ceremony, gone be in love with, Money difficulty, Job with our firm outburst Mantra information.

National & international forecast have established factual in excess of the times. Baba ji is the majority famous Indian astrologer love marriage Vashikaran expert baba. Most influential MohiniVashikaran mantra repair is huge & obliging for receiving control, authority on an important person essentially the single whom you desire to see in your life. Mohini Vashikaran astrologer for improved leadership concerning his choice & brochure. Vashikaran astrology is completely fledge bough of very old astrology to preserve be used for solve some love life issue. You are facing love evils in your existence.

 Mohini-Vashikaran-Mantra
                Mohini-Vashikaran-Mantra

Mohini Vashikaran Mantra For Girl

With the signify of it, pull towards you to an important person with your attractive condition. So those people actually love to their spouse & his partner not conventional your application for themmohini Vashikaran mantra for girl reminiscent of a magical apparatus, since behind implementing mohini Vashikaran mantra for girl, your spouse follow your teaching the length of lots of love. From the very old time mohini Vashikaran mantra for girl is use to obtain the predictable love from the young woman That is why at present mohini Vashikaran mantra for girl is well-liked all crossways world & his name in most excellent astrologer of the earth on top place in appreciated self-respect.

Mohini Vashikaran Mantra For Love 

Mohini Vashikaran mantra is an extremely resourceful & controls method to manage a girl, female with no trouble. Mohini Mantra is used at to time when you love someone & she overlooks you. Not charitable some reply to your word. Fall in love is not a gunah but populace see so as to it is big gunah. Mohini mantra as its person’s name it is use for draw an important person. Mohini mantra is a particular fraction of Vashikaran. Mohini mantra is an extremely well organized & dominating method to manage a girl/boy, man/woman with no trouble.

Mohini Vashikaran Mantra For Husband

Mohini Vashikaran mantra is a finest standard to persuade everyone to move about according to our thoughts & opinion. Famous & generalized astrologer recommends this procedure. Mohini Vashikaran mantra for husbands preserve changes the entire thought of a girl. You preserve with no trouble represent a girl in your method. Mohini Vashikaran mantra for Husband is the finest & available thoughts with the intention of will characterize the great meaning of Vashikaran.People make out us from our services. This compose us much love with the question ofastrology.

If you desire to resolve your relationship troubles with your partner, you preserve attempt our services. Our mohini Vashikaran mantra is very strong & powerful. You can contact us & all the discussions are free.

How To Use Vashikaran Yantra

How To Use Vashikaran Yantra

GURU JI CONTACT + 91 8059046337

Vashikaran’ factually means ‘to contain an important person underneath your control’. Therefore, the Vashikaran Yantra is worshipped & used to draw the being you wish & carry him or her underneath your power. Vashikaran Yantra is used to enchant & carry the being you feel affection for in your existence. Vashikaran is a very influential Yantra. Vashikaran Yantra is to draw an important person you love, obtain the associate of your option. It is a genuine spiritual wonder of the antique Indian discipline. If your love is factual, you determination observe the consequence from the original daylight hours itself. So use this Yantra with 100 percentcontentment agreement.

It will expand the authority of magnetism in you. This Yantra in a straight line power the brain & spirit of the being you similar to. This Yantra demonstrate precise consequences if used for moral reason. Vashikaran yantra is also having the similar principle, whilst custody Vashikaran yantrawith you if you go in front of whichever of the individual he or she will right away be in your control. Vashikaran yantra have numerous of benefits, as if it also bank the person from evil eyes & create the person seem additional charming & good-looking in face of the others.

Vashikaran Yantra For Husband

Vashikaran Yantra For Husband

If your husband has some type of terrible behavior, similar to husband drinks extremely greatly, contain bad behavior of name girls, your husband contain the situation with every auxiliary lady, if your husband is devious on you, if your husband perform not love you. You preserve attempt our Vashikaran Yantra. This Marriage Yantra still works healthy for people who by now love each additional but are opposite difficulty in life form jointly owing to parents’ condemnation, meddling by others, meddling by those frustrating to continue them separately, not life form clever to obtain married & additional obstruction.

Vashikaran Yantra Does It Work

Vashikaran is an occult knowledge magnetizing populace & concurrently driving huge authority up with the mixture of Mantra & Yantra. Opinion, language, brain, events, approach, & performance are forbidden by this very aged science. All Kings & grand, wealthy & regal & anyone eager of superstar in their existence, used these obscure charm at some tip of time. The Ancient Scriptures correspond to this as the testimony to the same. A tantra of Mantras & Yantra album entitles Vashikaran yantra. This collection consists of two chief astrological properties Yantra.

Vashikaran Yantra For Love

Vashikaran yantra is a yantra with the intention of used for Vashikaran method it is just similar to a mantra to be used to achievement you Vashikaran technique to control or attract persons. This Yantra is used to charm & carry the person you feel affection for in your existence. It preserve too be used for magnetism & sketch an important person in your existence. It is an extremely influential Yantra. If your Saturn is awful after that, you preserve use jointly with Nav Graham Yantra to make the most of the advantage.

If you would like to solve your some category of problem, you preserve try our Vashikaran Yantra. You can consult our astrologer. You can suffer free to contact us & you preserve ask over some questions or solve your problems. All the discussions are free.

Casting A Circle Magic Rituals

Casting A Circle Magic Rituals

GURU JI +91 8059046337

Some Wicca & additional non-pagans that put into carry out Ritual Magic cast blessed circles within which service are performed. The circle perform as an entrance to the dominion of the divinity, as a guard from evil forces, & supplementary merely as a mental means to position you in the precise status of mind. It preserve be within or in the open, at midnight or untimely in the morning. There is no wrong place to cast, so do not feel each anxiety to trudge out to the central point of nowhere if so as to determination create you expressively painful. The excellent put is somewhere you will sense reassured & at effortlessness, clever to group home in the method you desire, & in the suitable method for what rite or ceremony, you expect to do.

Casting a circle of defense is a method for Wiccans to defend themselves throughout magiclabor. It makes a fattening space where you preserve securely carry out your magic, without the meddling of some unenthusiastic or damaging entities so as to strength or else exist paying attention to your metaphysical energies throughout rituals & spell casting. The Circle is there to defend you, & is the most significant obsession you preserve study previous to effort some magic.   The cause for responsibility this is just one of safety measure. Metaphysical power pulls towards you a convinced quantity of thought from organism of a saintly scenery.

Black Magic Rituals For Money
                     Black Magic Rituals For Money

 Black Magic Rituals For Money

Wealth, money, & success are not simple belongings to approach by for many people in new period, but perhaps the stressed ample are missing a key constituent in their by no means ending & hardly still productive money mission. There is an underground to get hold of wealth to the elite have been using for thousands of years. The illumine ones recognize with the intention of wealthis not gained by hard work unaided. Sometimes a diminutive delightful preserve rally round. While  skeptics may perhaps be slow to blow off the talent of normal mixture, mean, chants & moneydraw chant, it is an information so as to write the supernatural has been used in the very structural design of our society’s following & economic epicenters. There must be a cause.

Black Magic Rituals For Power

The sound ‘black magic’ is extremely aged, & has been in continuation from the time immemorial. The Indian Vedas, the Yajurveda, in fastidious, furnish images of black magic. The confidence that such super rule continue living itself is a false notion. The black magic, by & hefty rivet various tantric customs. These rituals are used to take away the spell of the persons who believe with the aim of they are being obsessed by phantom & deity.

Black Magic Rituals For Wealth

Black magic ritual for Wealth is characteristically used to increase service. The term ‘wealth’ should be well unspoken before effort a wealth spell. For instance, wealth preserve be relevant to a great deal more than just currency, one preserve be wealthy in friendship, wealthy in physical condition or other effects. Although the danger of your spell go wrong is reasonable, the plunder preserve turn out to be exceptional. Care should be known in decide the correct spell & in the shed of it.

 

If you desire to be acquainted with additional about black magic ritual, you preserve consult our astrologer. You preserves call at anytime & you preserve obtain the top result. All the discussions are free.

 

Panchamakara Sadhana Rahasya

Panchamakara Sadhana Rahasya पञ्च मकार साधन रहस्य

FOR MORE INFO…. CALL GURU JI = 91 8059046337

साधना में पञ्च मकारों का बड़ा महत्व है| पर जितना अर्थ का अनर्थ इन शब्दों क किया गया है उतना अन्य किसी का भी नहीं| इनका तात्विक अर्थ कुछ और है व शाब्दिक कुछ और| इनके गहन अर्थ को अल्प शब्दों में व्यक्त करने के लिए जिन शब्दों का प्रयोग किया गया उनको लेकर दुर्भावनावश कुतर्कियों ने सनातन धर्म को बहुत बदनाम किया है|

मद्य, मांस, मत्स्य, मुद्रा और मैथुन ये पञ्च मकार हैं जिन्हें मुक्तिदायक बताया गया है| कुलार्णव तन्त्र के अनुसार — “मद्यपानेन मनुजो यदि सिद्धिं लभेत वै| मद्यपानरता: सर्वे सिद्धिं गच्छन्तु पामरा:|| मांसभक्षेणमात्रेण यदि पुण्या गतिर्भवेत| लोके मांसाशिन: सर्वे पुन्यभाजौ भवन्तु ह|| स्त्री संभोगेन देवेशि यदि मोक्षं लभेत वै| सर्वेsपि जन्तवो लोके मुक्ता:स्यु:स्त्रीनिषेवात||” मद्यपान द्वारा यदि मनुष्य सिद्धि प्राप्त कर ले तो फिर मद्यपायी पामर व्यक्ति भी सिद्धि प्राप्त कर ले| मांसभक्षण से ही यदि पुण्यगति हो तो सभी मांसाहारी ही पुण्य प्राप्त कर लें| हे देवेशि! स्त्री-सम्भोग द्वारा यदि मोक्ष प्राप्त होता है तो फिर सभी स्त्री-सेवा द्वारा मुक्त हो जाएँ| ……………………………………………………………………………………………………………….. (1) आगमसार के अनुसार मद्यपान किसे कहते हैं —- “सोमधारा क्षरेद या तु ब्रह्मरंध्राद वरानने| पीत्वानंदमयास्तां य: स एव मद्यसाधक:|| हे वरानने! ब्रह्मरंध्र यानि सहस्त्रार से जो अमृतधारा निकलती है उसका पान करने से जो आनंदित होते हैं उन्हें ही मद्यसाधक कहते हैं| ब्रह्मा का कमण्डलु तालुरंध्र है और हरि का चरण सहस्त्रार है| सहस्त्रार से जो अमृत की धारा तालुरन्ध्र में जिव्हाग्र पर (ऊर्ध्वजिव्हा) आकर गिरती है वही मद्यपान है| इसीलिए ध्यान साधना हमेशा खेचरी मुद्रा में ही करनी चाहिए| (२) आगमसार के अनुसार– “माँ शब्दाद्रसना ज्ञेया तदंशान रसना प्रियान | सदा यो भक्षयेद्देवि स एव मांससाधक: ||” अर्थात मा शब्द से रसना और रसना का अंश है वाक्य जो रसना को प्रिय है| जो व्यक्ति रसना का भक्षण करते हैं यानी वाक्य संयम करते हैं उन्हें ही मांस साधक कहते हैं| जिह्वा के संयम से वाक्य का संयम स्वत: ही खेचरी मुद्रा में होता है| तालू के मूल में जीभ का प्रवेश कराने से बात नहीं हो सकती और इस खेचरीमुद्रा का अभ्यास करते करते अनावश्यक बात करने की इच्छा समाप्त हो जय है इसे ही मांसभक्षण कहते हैं| (३) आगमसार के अनुसार — “गंगायमुनयोर्मध्ये मत्स्यौ द्वौ चरत: सदा| तौ मत्स्यौ भक्षयेद यस्तु स: भवेन मत्स्य साधक:||” अर्थान गंगा यानि इड़ा, और यमुना यानि पिंगला; इन दो नाड़ियों के बीच सुषुम्ना में जो श्वास-प्रश्वास गतिशील है वही मत्स्य है| जो योगी आतंरिक प्राणायाम द्वारा सुषुम्ना में बह रहे प्राण तत्व को नियंत्रित कर लेते हैं वे ही मत्स्य साधक हैं| (४) आगमसार के अनुसार चौथा मकार “मुद्रा” है — “सहस्त्रारे महापद्मे कर्णिका मुद्रिता चरेत| आत्मा तत्रैव देवेशि केवलं पारदोपमं|| सूर्यकोटि प्रतीकाशं चन्द्रकोटि सुशीतलं| अतीव कमनीयंच महाकुंडलिनियुतं| यस्य ज्ञानोदयस्तत्र मुद्रासाधक उच्यते||” सहस्त्रार के महापद्म में कर्णिका के भीतर पारद की तरह स्वच्छ निर्मल करोड़ों सूर्य-चंद्रों की आभा से भी अधिक प्रकाशमान ज्योतिर्मय सुशीतल अत्यंत कमनीय महाकुंडलिनी से संयुक्त जो आत्मा विराजमान है उसे जिन्होंने जान लिया है वे मुद्रासाधक हैं| विजय तंत्र के अनुसार दुष्टो की संगती रूपी बंधन से बचे रहना ही मुद्रा है| (५) शास्त्र के अनुसार मैथुन किसे कहते हैं अब इस पर चर्चा करते हैं| आगमसार के अनुसार — (इस की व्याख्या नौ श्लोकों में है अतः स्थानाभाव के कारण उन्हें यहाँ न लिखकर उनका भावार्थ ही लिख रहा हूँ) मैथुन तत्व ही सृष्टि, स्थिति और प्रलय का कारण है| मैथुन द्वारा सिद्धि और ब्रह्मज्ञान की प्राप्ति होती है| नाभि (मणिपुर) चक्र के भीतर कुंकुमाभास तेजसतत्व ‘र’कार है| उसके साथ आकार रूप हंस यानि अजपा-जप द्वारा आज्ञाचक्र स्थित ब्रह्मयोनि के भीतर बिंदु स्वरुप ‘म’कार का मिलन होता है| ऊर्ध्व में स्थिति प्राप्त होने पर ब्रह्मज्ञान का उदय होता है, उस अवस्था में रमण करने का नाम ही “राम” है| इसका वर्णन मुंह से नहीं किया जा सकता| जो साधक सदा आत्मा में रमण करते हैं उनके लिए “राम” तारकमंत्र है| हे देवि, मृत्युकाल में राम नाम जिसके स्मरण में रहे वे स्वयं ही ब्रह्ममय हो जाते हैं| यह आत्मतत्व में स्थित होना ही मैथुन तत्व है| अंतर्मुखी प्राणायाम आलिंगन है| स्थितिपद में मग्न हो जाने का नाम चुंबन है| केवल कुम्भक की स्थिति में जो आवाहन होता है वह सीत्कार है| खेचरी मुद्रा में जिस अमृत का क्षरण होता है वह नैवेद्य है| यामल तंत्र के अनुसार मूलाधार से उठकर कुंडलिनी रूपी महाशक्ति का सहस्त्रार स्थित परम ब्रह्म शिव से सायुज्य ही मैथुन है| अजपा-जप ही रमण है| यह रमण करते करते जिस आनंद का उदय होता है वह दक्षिणा है| संक्षिप्त में आत्मा में यानि राम में सदैव रमण ही तंत्र शास्त्रों के अनुसार मैथुन है न कि शारीरिक सम्भोग| यह पंच मकार की साधना भगवान शिव द्वारा पार्वती जी को बताई गयी है| (Note: यह साधना उन को स्वतः ही समझ में आ जाती है जो नियमित ध्यान साधना करते हैं| योगी अपनी चेतना में साँस मेरुदंड में सुषुम्ना नाड़ी में लेते है| नाक या या मुंह से ली गई साँस तो एक प्रतिक्रया मात्र है उस प्राण तत्व की जो सुषुम्ना में प्रवाहित है| जब सुषुम्ना में प्राण तत्व का सञ्चलन बंद हो जाता है तब साँस रुक जाति है और मृत्यु हो जाती है| इसे ही प्राण निकलना कहते हैं| अतः अजपा-जप का अभ्यास नित्य करना चाहिए|

Santan Gopal Mantra Vidhi in Hindi and Sanskrit

Santan Gopal Mantra Vidhi in Hindi and Sanskrit संतान गोपाल मन्त्र

MORE CONTACT GURU JI  +91 8059046337

santan-gopal MANTRA
                              santan-gopal MANTRA

हमारे संस्थान द्वारा सिद्ध संतान गोपाल कवच का निर्माण किया गया है। इस कवच को धारण करने से संतान सुख में वृद्धि होती है। इस कवच के लाभ –

1. इस कवच को धारण करने से संतान योग होता है। कुंडली में संतान न होने के दोष समाप्त होते है।
2. कई बार ऐसा देखा गया है कि कुछ स्त्रियों को या तो संतान नहीं होती अथवा किसी भी कारणवश गर्भपात हो जाता है। संतान गोपाल कवच उन्हें अवश्य धारण करना चाहिए।
3. इस कवच के प्रभाव से होने वाली संतान निरोगी, बुद्धिमान एवं विशेष गुणों से युक्त होती है। भगवान कृष्ण की साक्षात कृपा उनके ऊपर होती है एवं प्रभु स्वयं उनकी रक्षा करते है।
इस कवच को कोई भी धारण कर सकता है। इस कवच का निर्माण विशेष पूजा द्वारा किया जाता है। बाजार में इस समय जितने भी कवच है वो प्राण प्रतिष्ठित नहीं होते है और बिना प्राण प्रतिष्ठा के इनका कोई लाभ नहीं है। जब तक कवच धारण करने वाले के लिए विशेष पूजा ना की जाये तब तक धारण करने वाले को लाभ नहीं होता है। इस कवच के निर्माण एवं पूजा में मात्र 5100/= रूपये का खर्च आता है।
इस कवच को बनवाने के लिए हमे नीचे दी गई जानकारी उपलब्ध कराये ताकि आपके नाम से इस कवच को बनाया जा सके और प्राण प्रतिष्ठा की जा सके –
आपका पूरा नाम
आपके माता पिता का नाम
आपका गोत्र
आपका फोटोग्राफ
आपकी जन्मतारीख
आपका पता
यह जानकारी आप हमे ईमेल कर सकते है अथवा हमें फ़ोन पर लिखवा सकते है।

Santan Gopal mantra is considered to be very auspicious as it helps in removing the difficulty of conceiving children. The worshiping of Lord Krishna in the form of child proves to be the powerful effect for those who are not able to get the happiness of the child. The mantra is being recited and is dedicated to Lord Vishnu. The Vaishnava mantra pleases the planet Jupiter also. The mantra fulfils all the wishes of getting the child and bestows the devotees with all the happiness of the life by giving the child.

Benefits of Santan Gopal Japam

The couple who are having problem to get the child gets blessed with the Lord Krishna after enchanting the Santan Gopal Mantra.

सन्तान गोपाल मंत्र: सन्तान गोपाल मंत्र दूर करेगा हर संतान बाधा

शास्त्रों में संतान कामना को पूरा करने के ऐसे ही उपाय बताए गए हैं, जिनसे बिना किसी ज्यादा परेशानी या आर्थिक बोझ के मनचाही खुशियां मिलती हैं। यह उपाय है संतान गोपाल मन्त्र का जप। स्वस्थ्य, सुंदर संतान खासतौर पर पुत्र प्राप्ति के लिए यह मंत्र पति-पत्नी दोनों के द्वारा किया जाना बेहतर नतीजे देता है। संतान गोपाल मंत्र: देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते। देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत:।। संतान गोपाल मंत्र जप की विधि -पति-पत्नी दोनों सुबह स्नान कर पूरी पवित्रता के साथ उपरोक्त मंत्र का जप तुलसी की माला से करें।इसके लिए घर के देवालय में भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति या चित्र की चन्दन, अक्षत, फूल, तुलसी दल और माखन का भोग लगाकर घी के दीप व कर्पूर से आरती करें।बालकृष्ण की मूर्ति विशेष रूप से श्रेष्ठ मानी जाती है।भगवान की पूजा के बाद या आरती के पहले उपरोक्त संतान गोपाल मंत्र का जप करें।मंत्र जप के बाद भगवान से समर्पित भाव से निरोग, दीर्घजीवी, अच्छे चरित्रवाला, सेहतमंद पुत्र की कामना करें।यह मंत्र जप पति या पत्नी अकेले भी कर सकते हैं।

Devi Baglamukhi Hridaya Mantra in Hindi and Sanskrit देवी बगलामुखी हृदय मंत्र

हृदय मंत्र को देवता का हृदय कहा जाता हैा इसके जप से देवता का सानिध्य बढ़ता है एवं सिद्ध होने पर दर्शन प्राप्त होते हैं। अपने गुरूदेव से इस मंत्र की दीक्षा लेकर ही इसका जप करें । कई बार ऐसा देखा गया है कि कुछ लोग साधना के प्रारम्भ में ही हृदय मंत्र का जप शुरू कर देते है और जैसे ही देवता का सानिध्य बढ़ता है तो घबरा जाते है और डर से अपनी साधना बीच में ही छोड़ देतें हैा इसलिए साधको को मेरा परामर्श है कि जब आपके गुरूदेव कहें तभी इसका जप करें । नये साधको को इसके स्थान पर बगलामुखी हृदय स्तोत्र का पाठ करना चाहिए ।